Forgot password?    Sign UP
अनीता गोपालन पेन/हेम ट्रांसलेशन फंड ग्रांट-2016 पुरस्कार से सम्मानित की गयी

अनीता गोपालन पेन/हेम ट्रांसलेशन फंड ग्रांट-2016 पुरस्कार से सम्मानित की गयी





2016-08-03 : हाल ही में, अनुवादक एवं कलाकार अनीता गोपालन 25 जुलाई 2016 को पेन/हेम ट्रांसलेशन फंड ग्रांट-2016 पुरस्कार से सम्मानित की गयीं। उन्हें यह सम्मान हिंदी के उपन्यास सिमसिम का अंग्रेजी अनुवाद करने हेतु दिया गया। पाठकों को बता दे की गोपालन दूसरी भारतीय लेखक हैं जिन्हें यह पुरस्कार दिया गया। सिमसिम गीत चतुर्वेदी द्वारा लिखित पुरस्कृत उपन्यास है जिसका प्रकाशन 2008 में हुआ था। इसे हिंदी फिक्शन के कारण जाना जाता है। सिमसिम की कहानी मुंबई में स्थित एक लाइब्रेरी पर आधारित है जिसकी हालत दिन-प्रतिदिन ख़राब होती जा रही है। पुस्तक में भारत को दो तरह की विचारधारा, पारंपरिक एवं कॉरपोरेट लालच, के बीच फंसा हुआ दिखाया गया है।

अनीता अनुवादक एवं कलाकार हैं। उन्होंने बिट्स पिलानी से कंप्यूटर विज्ञान एवं गणित में स्नातक किया। वे भारत, ऑस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैण्ड, सिंगापुर एवं मध्य-पूर्व खाड़ी देशों में 14 वर्षों तक बैंकिंग टेक्नोलॉजी में कार्यरत रहीं। उन्होंने गीत चतुर्वेदी द्वारा लिखित कविताओं का अंग्रेजी में अनुवाद किया।

पेन/हेम ट्रांसलेशन फंड ग्रांट के बारे में :-

# पेन/हेम ट्रांसलेशन फंड ग्रांट की स्थापना वर्ष 2003 में पेन अमेरिकन सेंटर द्वारा की गयी।

# इसकी स्थापना प्रसिद्ध साहित्यिक अनुवादक मिशेल हेनरी हेम द्वारा 730000 अमेरिकी डॉलर की पुरस्कार राशि से किया गया।

# इसे पहले पेन ट्रांसलेशन फंड ग्रांट्स के नाम से जाना जाता था जिसे बाद में हेम ट्रांसलेशन फंड ग्रांट्स के नाम से जाना जाने लगा।

# इसका उद्देश्य स्थानीय भाषा से अंग्रेजी में अनुवाद किये गये साहित्य को प्रोत्साहन देना है।

# यह पुरस्कार प्रत्येक वर्ष अनुवाद की क्वालिटी तथा उसके महत्व के कारण प्रदान किया जाता है।

Provide Comments :





Related Posts :