Forgot password?    Sign UP
राष्ट्रपति ने राज्यसभा के लिए चार सदस्यों को मनोनीत किया

राष्ट्रपति ने राज्यसभा के लिए चार सदस्यों को मनोनीत किया





2018-07-17 : हाल ही में, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 14 जुलाई 2018 को राकेश सिन्हा, सोनल मानसिंह, रघुनाथ महापात्र और राम सकल सिंह को राज्यसभा के लिए मनोनीत किया है। संविधान के अनुच्छेद 80 के तहत प्रदत्त शक्तियों का उपयोग करते हुए और प्रधानमंत्री की सलाह पर राष्ट्रपति ने इन चार लोगों को राज्यसभा के लिए मनोनीत किया है। इन चार नामांकनों से पहले, राज्यसभा में आठ नामांकित सदस्य थे। पाठकों को बता दे की क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर, फिल्म अभिनेत्री रेखा, अनु आगा और के पारासन का कार्यकाल समाप्त होने के बाद राज्यसभा की चार सीटें खाली थीं। राष्ट्रपति को 12 सदस्य मनोनीत करने का अधिकार है। जिसमें सिनेमा, विज्ञान, खेल, कला आदि से जुड़े लोगों को शामिल किया जाता है। इसी अधिकार के तहत इन चार लोगों को मनोनीत किया गया है।

राम सकल सिंह के बारे में :-

उत्तर प्रदेश के राम सकल सिंह ने दलित समुदाय के कल्याण एवं बेहतरी के लिए काम किया है। एक किसान नेता के रूप में उन्होंने किसानों, श्रमिकों के कल्याण के लिए काम किया। वे तीन बार सांसद रहे और उत्तरप्रदेश के राबर्ट्सगंज का प्रतिनिधित्व किया था। वह भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय सचिव भी रह चुके हैं। राम सकल सिंह ने पहली बार वर्ष 1996 में राबर्ट्सगंज सुरक्षित सीट से लोकसभा का चुनाव लड़ा और उन्हें जीत हासिल हुई।

राकेश सिन्हा के बारे में :-

राकेश सिन्हा दिल्ली स्थित विचार समूह ‘इंडिया पॉलिसी फाउंडेशन के संस्थापक और मानद निदेशक हैं। वे दिल्ली विश्वविद्यालय में मोतीलाल नेहरू कालेज में प्रोफेसर और भारतीय सामाजिक विज्ञान शोध संस्थान के सदस्य हैं। वे नियमित रूप से समाचारपत्रों में आलेख लिखते हैं।

सोनल मानसिंह के बारे में :-

सोनल मान सिंह प्रसिद्ध भरतनाट्यम और ओडिसी नृत्यांगना है और छह दशकों से इस क्षेत्र में योगदान दिया है। उन्होंने भरतनाट्यम का प्रशिक्षण प्रोफेसर यू।एस कृष्ण राव और चंद्रभगा देवी से प्राप्त किया। उन्होंने अपने नृत्य के माध्यम से पर्यावरण की बचत, महिलाओं की मुक्ति जैसे मामले प्रदर्शित किए और इन सामाजिक मुद्दों पर नृत्य के माध्यम से अपनी चिंता व्यक्त की। सोनल मानसिंह को कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। उन्हें वर्ष 1992 में भारत के राष्ट्रपति द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया और वे सबसे कम उम्र में पद्म भूषण पाने वाली महिला हैं।

रघुनाथ महापात्र के बारे में :-

रघुनाथ महापात्र का पारंपरिक स्थापत्य और धरोहरों के संरक्षण में महत्वपूर्ण योगदान रहा है। उन्होंने श्री जगन्नाथ मंदिर, पुरी के सौंदर्यीकरण कार्य में हिस्सा लिया। उनके प्रसिद्ध कार्यों में छह फुट लम्बे भगवान सूर्य की संसद के सेंट्रल हाल में स्थित प्रतिमा और पेरिस में बुद्ध मंदिर में लकड़ी से बने बुद्ध हैं। रघुनाथ महापात्रा पद्म विभूषण (2013), पद्म भूषण (2001), पद्म श्री (1975) से सम्मानित हो चुके हैं। उन्हें 22 साल की उम्र में 1964 में मूर्ति कला के क्षेत्र में राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया था।

Provide Comments :





Related Posts :