Forgot password?    Sign UP
रिलायंस कम्युनिकेशंस और एयरसेल ने विलय की घोषणा की

रिलायंस कम्युनिकेशंस और एयरसेल ने विलय की घोषणा की





2016-09-15 : हाल ही में, अनिल अंबानी के स्वामित्व वाली कम्पनी रिलायंस कम्युनिकेशंस (आर कॉम) ने 14 सितंबर 2016 को एयरसेल के साथ अपने वायरलेस टेलिकॉम कारोबार के विलय की घोषणा की। इस विलय के पश्चात् यह गठजोड़ उपभोक्ताओं की संख्या के आधार पर देश का तीसरा सबसे बड़ा टेलिकॉम ऑपरेटर होगा। गौरतलब है कि रिलायंस कम्युनिकेशंस भारत का चौथा सबसे बड़ा टेलिकॉम ऑपरेटर है जिसके 9।87 करोड़ उपभोक्ता हैं जबकि एयरसेल के 8.8 करोड़ यूजर्स हैं और वह देश का आठवां सबसे बड़ा टेलिकॉम ऑपरेटर है।

दोनों कम्पनियों के विलय से बनने वाली नयी कम्पनी से देश में 850, 900, 1800 और 2100 मेगाहर्ट्ज के बैंड में दूसरा सबसे बड़ा स्पेक्ट्रम तैयार होगा। इस कम्पनी के पास 65,000 करोड़ रुपए की परिसंपत्तियां होंगी। आर कॉम द्वारा एसएसटीएल सिस्तेमा (एमटीएस) के वायरलेस कारोबार का अधिग्रहण और अब एयरसेल के विलय से एमसीबी के साथ 50:50 के अनुपात से संयुक्त उद्यम बनाया गया है।

इस संयुक्त उद्यम से व्यापक स्पेक्ट्रम पोर्टफोलियो, अधिक आय और लागत में तालमेल से आर कॉम और एमसीबी दोनों के शेयरधारकों के लिये उल्लेखनीय दीर्घकालीन मूल्य प्राप्त होगा। दोनों के अधिग्रहण के बाद गठित नई कंपनी के स्पेक्ट्रम की वैधता वर्ष 2033-2035 तक होगी। आर कॉम को पश्चिम बंगाल, बिहार, असम में लाभ मिलेगा जबकि एयरसेल के पास 13 सर्किल लाइसेंस हैं जहां दोनों को संयुक्त लाभ मिल सकता है।

Provide Comments :




Related Posts :