Forgot password?    Sign UP
अमिताव घोष टाटा लिटरेचर लाइव लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार हेतु नामित किये गये

अमिताव घोष टाटा लिटरेचर लाइव लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार हेतु नामित किये गये





2016-11-13 : हाल ही में, भारतीय अमेरिकी कथा लेखक अमिताव घोष (60 वर्षीय) के भारतीय साहित्य में उत्कृष्ट योगदान हेतु 2016 टाटा लिटरेचर लाइव लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड के लिए नामित किया गया है। 20 नवंबर को आयोजित चार दिवसीय टाटा लिटरेचर लाइव मुंबई साहित्य महोत्सव वार्षिक पुरस्कार समारोह में उन्हें यह पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। पाठकों को बता दे की इससे पहले टाटा लिटरेचर लाइव लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार से 2015 में किरण नागरकर, 2014 में एमटी वासुदेवन नायर, 2013 में खुशवंत सिं खुशवंत सिंह, 2012 में वीएस नायपाल और 2011 में महाश्वेता देवी जैसी हस्तियां को सम्मानित किया जा चुका है।

अमिताव घोष के बारे में :-

# अमिताव घोष एक भारतीय मूल के अमेरिकी लेखक हैं। उन्हें अंग्रेजी के उपन्यास और ऐतिहासिक विषयों पर शोध और लेखन के लिए जाना जाता है।

# उन्होंने आल बॉयज दून स्कूल से शिक्षा ग्रहण की। वहीँ उन्होंने दून स्कूल साप्ताहिक को संपादित किया।

# दून में उनके समकालीन लेखकों में विक्रम सेठ और राम गुहा शामिल थे।

# उन्होंने सेंट स्टीफन कॉलेज दिल्ली, दिल्ली विश्वविद्यालय, और दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से डिग्री प्राप्त की।

# उन्होंने पीटर लियनहार्ड्ट की देखरेख में सेंट एडमंड हॉल, ऑक्सफोर्ड में सामाजिक नरविज्ञान में डी फिल पूरा किया और इन्लाक्स फाउंडेशन छात्रवृत्ति जीती।

# कथा साहित्य में उनके अन्य प्रसिद्ध कार्य द शैडो लाइन्स, द कोलकाता क्रोमोजोम, द ग्लास पैलेस, द हंगरी टाइड, सी ऑफ पोपीस हैं।

# उनकी उल्लेखनीय नॉन-फिक्शन लेखन एन एंटिक लैंड डांसिंग इन कंबोडिया, लार्ज इन बर्मा, काउंट डाउन और द इमाम एंड द इन्डियन हैं।

# 1986 में लिखे गए उनके पहले उपन्यास सर्किल ऑफ़ रीजन ने फ्रांस के सर्वोच्च साहित्यिक पुरस्कारों में से एक प्रिक्स मेडिसिस एत्रंगेर जीता।

# टाटा लिटरेचर लाइव पुरस्कार अपनी स्थापना के बाद से मुंबई लिटफेस्ट में भारतीय लेखकों को उनकी उपलब्धियों और उन्हें प्रोत्साहित करने हेतु प्रदान किया जाता है।

Provide Comments :





Related Posts :