Forgot password?    Sign UP
भारत विश्व में सबसे बड़ा शस्त्र आयातक : सीपरी रिपोर्ट

भारत विश्व में सबसे बड़ा शस्त्र आयातक : सीपरी रिपोर्ट





2017-02-23 : स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम के एक थिंकटैंक ने बताया कि भारत पिछले पांच साल में बड़े हथियारों का विश्व का सबसे बड़ा आयातक रहा है। विदेशों से भारत की शस्त्र खरीद चीन और पाकिस्तान से अधिक है। स्टॉकहोम इंटरनैशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीपरी) की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2012 से वर्ष 2016 के बीच विश्व के कुल शस्त्र आयात में भारत की हिस्सेदारी 13 प्रतिशत रही जो सभी देशों में सर्वाधिक है। इस रिपोर्ट के मुताबिक, चीन स्वदेशी उत्पादन के साथ शस्त्र आयात को कम करने में सफल रहा है, वहीं भारत अमेरिका, रूस, यूरोप, इस्राएल तथा दक्षिण कोरिया की वेपंस टेक्नॉलजी पर निर्भर बना हुआ है। इस संगठन का कहना है की भारत वर्ष 2012 से वर्ष 2016 में बड़े हथियारों का विश्व का सबसे बड़ा आयातक था और विश्व के कुल आयात में 13 प्रतिशत हिस्सेदारी उसकी रही।

रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ष 2007 से वर्ष 2011 और वर्ष 2012 से वर्ष 2016 के बीच भारत का शस्त्र आयात 43 प्रतिशत बढ़ गया और पिछले चार साल में उसकी वैश्विक खरीद उसके क्षेत्रीय प्रतिद्वंद्वियों पाकिस्तान और चीन से कहीं अधिक थी। इसके अलावा इस रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले पांच वर्ष में बड़े हथियारों का व्यापार शीतयुद्ध के बाद से सर्वाधिक हो गया है और इसकी मुख्य वजह पश्चिम एशिया तथा एशिया में मांग में तेजी आना है।

रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2012 से वर्ष 2016 के दौरान विश्व के कुल आर्म्स एक्सपोर्ट में रूस की भागीदारी 23 प्रतिशत रही तथा इसका 70 फीसदी निर्यात भारत, चीन, वियतनाम और अल्जीरिया को हुआ। विश्व भर में शांति स्थापना करने के उद्देश्य पर केंद्रित सिपरी की वार्षिक रिपोर्ट से पता चलता है कि निरस्त्रीकरण के वायदों के बावजूद विश्व के कई शक्तिशाली देशों की रुचि हथियारों की खरीद-फरोख्त में बढ़ती ही जा रही है।

इस दौरान अमेरिका एक तिहाई हिस्सेदारी विश्व का सबसे बड़ा हथियार निर्यातक देश रहा। इसका लगभग आधा माल मध्य पूर्व के देशों में पहुंचा। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि वैश्विक हथियार निर्यात में चीन की हिस्सेदारी वर्ष 2007 से वर्ष 2011 के 3.8 प्रतिशत से बढ़कर वर्ष 2012 से वर्ष 2016 में 6.2 प्रतिशत हो गयी है। रिपोर्ट के अनुसार यह (चीन) अब फ्रांस (6 प्रतिशत) और जर्मनी (5.6 प्रतिशत) की तरह टॉप-टीयर का सप्लायर बन चुका है।

Provide Comments :





Related Posts :