Forgot password?    Sign UP
नार्वे बना FM रेडियो बंद करने वाला दुनिया का पहला देश

नार्वे बना FM रेडियो बंद करने वाला दुनिया का पहला देश





2017-01-11 : हाल ही में, नार्वे एफएम रेडियो बंद करने वाला विश्व का पहला देश बना। नार्वे 11 जनवरी 2017 से अपना एफएम रेडियो नेटवर्क बंद कर रहा है। अपने डिजिटल रेडियो को सपोर्ट करने के लिए उसने ऐसा किया। नॉर्वे एफएम की बजाय डिजिटल ऑडियो ब्रॉडकास्टिंग (डैब) तकनीक को अपनाने जा रहा है। नार्वे के अनुसार डिजिटल रेडियो की साउंड क्वालिटी एफएम से ज्यादा अच्छी है और इसकी लागत भी 8 गुना कम है। स्विट्जरलैंड ने एफएम रेडियो को खत्म करने के लिए वर्ष 2020 की समयसीमा तय की है। पाठकों को बता दे की भारत में एफएम रेडियो की शुरूआत चेन्नई में वर्ष 1977 में हुई थी। यहां सरकार एफएम कंपनियों से एक ही बार प्रवेश शुल्क लेती है।

क्या है डिजिटल ऑडियो ब्रॉडकास्टिंग तकनीक?

# डिजिटल ऑडियो ब्रॉडकास्टिंग एक ऐसी तकनीक हैं जिसमें एनालॉग ऑडियो सिग्नल को डिजिटल सिग्नल में बदला जाता है। इसे ऑडियो की अब तक की बहुत ही अच्छा तकनीक माना जाता है।

# इस तकनीक को अपनाने से 2.35 करोड़ डॉलर की सलाना बचत होगी। नार्वे में 20 फीसदी निजी कारें ऐसी है जिनमें पहले से ही डैब रेडियो सिस्टम मौजूद है।

# एफएम को डैब रेडियो सिस्टम में बदलने में 174.70 डॉलर की लागत आती है।

Provide Comments :





Related Posts :