Forgot password?    Sign UP
भारत ने क्यूबा के साथ स्वास्थ्य क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने हेतु समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किये

भारत ने क्यूबा के साथ स्वास्थ्य क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने हेतु समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किये





2017-12-07 : हाल ही में, भारत और क्यूबा के बीच 06 दिसम्बर 2017 को स्वास्थ्य क्षेत्र में आपसी सहयोग को बढ़ावा देने हेतु समझौता पत्र पर हस्ताक्षर हुए। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जे पी नड्डा एवं क्यूबा के स्वास्थ्य मंत्री डॉ रोबर्टो टोमस मोरल्स ओजेदा ने समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किए। इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी और क्यूबा का एक प्रतिनिधि मंडल भी उपस्थित था। जे पी नड्डा ने समझौते को ऐतिहासिक बताते हुए कहा कि भारत और क्यूबा के बीच साझा समानता के मूल्यों और न्याय पर आधारित ऐतिहासिक संबंध हैं। उन्होंने समझौते को लागू करने के लिए एक संयुक्त कार्य दल के गठन का सुझाव दिया है।

पाठकों को बता दें की समझौता ज्ञापन का मूल उद्देश्य दोनों देशों के तकनीकी, वैज्ञानिक, वित्तीय और मानवीय संसाधनों को एक साथ लाकर स्वास्थ्य देखभाल के बुनियादी ढ़ाचे को गुणवत्ता युक्त और मजबूत बनाना है। स्वास्थ्य एवं दवाईयों के क्षेत्र में सहयोग के लिए यह समझौता बेहद महत्वपूर्ण हैं। इससे दोनों ही देशों के बीच स्वास्थ्य के क्षेत्र में संस्थागत सहयोग का बढ़ावा मिलेगा। फार्मा और बायोटेक्नोलॉजी के क्षेत्र में सहयोग की व्यापक संभावनाएं हैं। दोनों ही देश कई वैश्विक मुद्दों पर समान राय रखते हैं।

क्यूबा ने बायोटेक्नोलॉजी और फार्मा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किया है। संयुक्त रूप से व्यापारिक स्तर पर दवाईयों के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए संस्थागत सहयोग को प्रोत्साहित करने की जरूरत है। फार्मास्युटिकल और जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में दोनों देशों के बीच सहयोग की व्यापक संभावनाए हैं। क्यूबा ने फार्मा और जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में कई उपलब्धियां हासिल की हैं ऐसे में भारत को दवा उत्पादन के लिए उसके साथ व्यावसायिक सहयोग के रास्ते लताशने चाहिए।

Provide Comments :





Related Posts :