Forgot password?    Sign UP
तेलंगाना राज्य के नाम पर रखा गया मकड़ी की प्रजाति का नाम |

तेलंगाना राज्य के नाम पर रखा गया मकड़ी की प्रजाति का नाम |



0000-00-00 : थेमोसाइड परिवार से संबंधित मकड़ी का नाम तेलंगाना राज्य के नाम पर रखा दिया गया है | तथा इस मकड़ी को "तेलंगाना क्रेब स्पाइडर" कहा जाएगा | एवं केकड़ों से संरचनात्मक समानता के कारण इन मकड़ियों को क्रेब स्पाइडर नाम दिया गया | इन मकड़ियों को फूल मकड़ियों के नाम से भी जाना जाता है | क्योंकि ये फूलों में रहने वाले कीटों को अपना शिकार बनाती हैं | इन केकड़ों को उस्मानिया विश्वविद्यालय के प्राणी विज्ञान विभाग के दो शोधकर्ताओं जीबी प्रवाल्लिका और चेल्माला श्रीनिवासुलु द्वारा करीमनगर जिले के नागनूर अभियान के दौरान खोजा गया है | खोज की पुष्टि संरक्षण और वर्गीकरण पर आधारित अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका "थ्रीएटेड टेक्सा" में की गई थी | मकड़ियों पर यह अध्ययन विज्ञान और अभियांत्रिकी अनुसंधान बोर्ड, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के संघ विभाग और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा समर्थित था | तेलंगाना क्रेब स्पाइडर के बारे में कुछ तथ्य : (i) ये जापान में पाई जाने वाली मकड़ियों की एक प्रजाति "थोमिसस लाबेफेक्ट्स" की तरह ही प्रतीत होती है | (ii) यह मकड़ियाँ पारंपरिक मकड़ियों की तरह जाल नहीं बुनती हैं | (iii) ये अचानक शिकार पर हमला करती हैं और अपने विष से उन्हें मार देती है | (iv) यह प्रजाति पारिस्थितिकी तंत्र के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह कीटों की आबादी को नियंत्रित करने में मदद करती हैं | (v) यह आकार में 3मिमी से 23मिमी के मध्य होती हैं | (vi) ये मकड़ियाँ गाढ़े और हल्के दोनों रंगों में होती हैं | (vii) यह आमतौर पर पत्थरों के नीचे, पौधों, झाड़ियों, घास, फूल, पत्तियों में पाई जातीं हैं |

Provide Comments :




Related Posts :