Forgot password?    Sign UP
तुर्की करेगा शंघाई सहयोग संगठन ऊर्जा क्लब 2017 की अध्यक्षता

तुर्की करेगा शंघाई सहयोग संगठन ऊर्जा क्लब 2017 की अध्यक्षता





2016-11-25 : हाल ही में, तुर्की शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) ऊर्जा क्लब 2017 की अध्यक्षता करेगा। इसके साथ ही, यह संगठन के क्लब की अध्यक्षता करने वाला पहला गैर पूर्ण कालिक सदस्य देश बन जाएगा। 22 नवंबर 2016 को हुई बैठक में ऊर्जा क्लब की अध्यक्षता की मेजबानी हेतु गैर–एससीओ सदस्य देश का अंकारा का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया गया। तुर्की के राष्ट्रपति रजब तईब इरदुगान द्वारा तुर्की को एससीओ का विकल्प बताए जाने के बाद रुस और चीन के अधिकारियों ने अंकारा के नाम को हरी झंडी दे दी।

संघाई सहयोग संगठन के बारे में :-

# संघाई सहयोग संगठन को संघाई पैक्ट/ संधि के नाम से भी जाना जाता है।

# यह यूरेशियाई राजनीतिक, आर्थिक और सैन्य संगठन है।

# इसकी स्थापना 2001 में शंघाई में चीन, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, रुस, तजाकिस्तान और उज्बेकिस्तान के नेताओं द्वारा की गई थी।

# उज्बेकिस्तान को छोड़ कर ये देश शंघाई फाइव के सदस्य हैं जिसकी स्थापना 1996 में की गई थी। 2001 में उज्बेकिस्तान के शामिल होने के बाद, संगठन ने फिर से इसका नाम रखा था।

# भारत, पाकिस्तान, मंगोलिया, इरान और अफगानिस्तान एससीओ के पर्यवेक्षक हैं। दूसरी तरफ बेलारूस और तुर्की संवाद भागीदार हैं।

Provide Comments :





Related Posts :