Forgot password?    Sign UP
नागपुर इलेक्ट्रिक टैक्सी अपनाने वाला भारत का पहला शहर बना

नागपुर इलेक्ट्रिक टैक्सी अपनाने वाला भारत का पहला शहर बना





2017-05-29 : हाल ही में, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने 26 मई 2017 को नागपुर में भारत की पहली इलेक्ट्रिक ट्रांसपोर्ट परियोजना का उद्घाटन किया। इस अवसर पर केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गड़करी भी उपस्थित थे। हरित परिवहन सेवा के अंतर्गत शहर में 100 फ़ीसदी इलेक्ट्रिक पर बस, कार, रिक्शा और ऑटो रिक्शा शहर की सड़को पर चलेंगे। महिंद्रा मोटर्स, टाटा मोटर्स और काइनेटिक जैसी कंपनियों ने पूरी तरह से इलेक्ट्रिक पर चलने वाले वाहनों का निर्माण किया है जो सब शहर की सड़को पर चलेंगे। महिंद्रा द्वारा निर्मित कार का इस्तेमाल टैक्सी सेवा उपलब्ध कराने वाली कंपनी ओला अपने सेवाओं के लिए करेगी। ओला ने नागपुर एयरपोर्ट पर इस वाहनों की चार्जिंग के लिए स्टेशन का निर्माण भी किया है।

इस योजना का शुभारंभ करते हुए मुख्यमंत्री ने कहाँ कि पर्यवारण के संतुलन का काम नागपुर से शुरू हो रहा है 21 वी सदी के जिस विकास की संकल्पना भारत ने सोची है उसकी नीव इस कार्यक्रम के माध्यम से रखी जा रही है। प्रदुषण फ़ैलाने वाले ऊर्जा के विभिन्न स्त्रोतों को बदलकर वैकल्पिक और पर्यवरण के अनुकूल ऊर्जा का इस्तेमाल करने का प्रयास शुरू है। जिस गति से वैकल्पिक ऊर्जा को अपनाकर देश आगे बढ़ रहा है भविष्य में लगभग 20 लाख करोड़ की ऑटोमोबाइल इंड्रस्टी हो जाएगी। इन प्रयासों से न सिर्फ बड़े पैमानें में रोज़गार का सृजन होगा बल्कि इंसान को इंसान द्वारा ढोये जाने की अमानवीय प्रवृति पर भी रोक लगेगी।

टाटा मोटर्स की बस को आगामी 50 दिनों के लिए कंपनी ने दीनदयाल रिसर्स इंस्टीट्यूट को सौंपा है। योजना में अहम भूमिका निभाने वाली कंपनी ओला के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकार भावेश अग्रवाल के अनुसार उन्होंने कई कंपनियों से करार कर योजना को सफल बनाने की दिशा में कदम उठाया है। इस योजना की वजह से देश में बेहतर ट्रांसपोर्ट सिस्टम तैयार होगा।

वही महिंद्रा मोटर्स के एमडी पवन गोयनका ने कहाँ देश में सड़क परिवहन के उज्वल भविष्य की शुरुवात हो रही है। यह योजना भविष्य के नया मॉडल तैयार करेगी यह भी हो सकता है की इलेक्ट्रिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम के क्रियान्वयन ने भारत विश्व में अग्रणी रहे।

पायलट प्रोजेक्ट 200-मजबूत बेड़े के साथ शुरू होगा, जिसमें से 100 महिंद्रा के नए ई 2 प्लस वाहन भी शामिल होंगे। बाकी अन्य वाहनों में टाटा मोटर्स, काइनेटिक, बीईडी और टीवीएस सहित अन्य से मिलेगा। टैक्सी एग्रीगेटर ओला ने पहले ही 50 करोड़ रुपये के ऊपर ईवी और चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए निवेश किया है, जो कि नागपुर के चार रणनीतिक स्थानों में 50 प्लस चार्जिंग पॉइंट के साथ शुरू हो रहा है।

नीति आयोग की रिपोर्ट का अनुमान है कि भारत वर्ष 2030 तक अनुमानित यात्री गतिशीलता से संबंधित ऊर्जा की मांग का 64 प्रतिशत और कार्बन उत्सर्जन का 37 प्रतिशत तक बचा सकता है। वर्तमान तेल की कीमतों में भी कमी आएगी।

Provide Comments :





Related Posts :