Forgot password?    Sign UP
नासिर-उल-मुल्क पाकिस्तान के कार्यवाहक प्रधानमंत्री नियुक्त  किये गए

नासिर-उल-मुल्क पाकिस्तान के कार्यवाहक प्रधानमंत्री नियुक्त किये गए





2018-05-29 : हाल ही में, पाकिस्तान के पूर्व चीफ जस्टिस नासिर-उल-मुल्क को 28 मई 2018 को देश का कार्यवाहक प्रधानमंत्री नियुक्त किया गया| विपक्ष के नेता खुर्शीद शाह के साथ प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी और नेशनल एसेंबली के अध्यक्ष अयाज सादिक ने यह घोषणा एक संयुक्त प्रेस वार्ता में की| कार्यकारी प्रधानमंत्री नियुक्त होने वाले नासिर-उल-मुल्क 01 जून 2018 को अपना कामकाज संभालेंगे| वे तब तक अपने पद पर बनें रहेंगे जब तक नई लोकतांत्रिक सरकार का गठन न हो जाए| पाकिस्तान में वर्तमान सरकार का कार्यकाल 31 मई 2018 को समाप्त हो रहा है| जबकि 25 जुलाई 2018 से आम चुनाव शुरू हो जाएंगे| पाकिस्तान के संविधान में सरकार का कार्यकाल खत्म होने के 60 दिन के भीतर चुनाव कराने होते हैं| इस चुनाव में सत्तारुढ़ पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज, इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ और पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी की पार्टी पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के बीच त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिल सकता है|

नासिर-उल-मुल्क के बारे में :-

# न्यायमूर्ति नासिर-उल-मुल्क का जन्म 17 अगस्त 1950 को हुआ था|

# न्यायमूर्ति नासिर-उल-मुल्क ने पाकिस्तान के 22वें प्रधान न्यायाधीश के रूप में सेवा की है|

# उन्होंने 30 नवंबर 2013 से 06 जुलाई 2014 तक कार्यवाहक मुख्य निर्वाचन आयुक्त के रूप में भी अपनी सेवाएं दी हैं|

# वे उन सात न्यायाधीशों में से एक हैं, जिन्होंने 03 नवंबर 2007 को पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ द्वारा आपातकाल लागू कर न्यायाधीशों को जबरन घर भेजने वाले निरोधक आदेश पर हस्ताक्षर किए थे|

कार्यवाहक प्रधानमंत्री एवं उसके कार्यों के बारे में जानिये.......

# पाकिस्तान में कार्यवाहक प्रधानमंत्री का काम संसद भंग करने और नई सरकार के शपथ ग्रहण करने के मध्य की अवधि में देश चलाने का होता है|

# कार्यवाहक अथवा अंतरिम प्रधानमंत्री की नियुक्ति तब तक के लिए की जा सकती है, जब तक की नया प्रधानमंत्री विधिक रूप से नियुक्त नहीं कर दिया जाता|

# पीएमएल-एन और विपक्ष के बीच कार्यवाहक प्रधानमंत्री के नाम को लेकर लंबे समय से गतिरोध चल रहा था|

# मौजूदा सरकार का कार्यकाल 31 मई को पूरा हो रहा है| ऐसे में कार्यवाहक सरकार की निगरानी में चुनाव कराए जाएंगे| कार्यवाहक प्रधानमंत्री की जिम्मेदारी होगी कि वो देश में निष्पक्ष और शांत माहौल में चुनाव कराएं|

Provide Comments :





Related Posts :