Forgot password?    Sign UP
जर्मनी ने विश्व की पहली सेल्फ-ड्राइविंग ट्रैम का सफल परीक्षण किया

जर्मनी ने विश्व की पहली सेल्फ-ड्राइविंग ट्रैम का सफल परीक्षण किया





2018-09-26 : हाल ही में, जर्मनी ने दुनिया की पहली सेल्फ-ड्राइविंग ट्रैम का सफल परीक्षण किया। यह ट्रैम एलआईडीएआर टेक्नोलॉजी, कैमरा सेंसर्स और कई रडार से लैस है। यह ट्रैम जर्मनी के बर्लिन में आयोजित होने वाली पहली इंटरनेशनल ट्रांसपोर्ट एक्जीबिशन में हिस्सा लेगा। यह ट्रैम इंसानों के मुकाबले अधिक तेज़ी से ट्रैकसाइड सिग्नल और संभावित खतरों की पहचान करने में सक्षम है। इसका परीक्षण वास्तविक यातायात परिस्थितियों में 6 किलोमीटर लंबे ट्रैक पर सेफ्टी ड्राइवर के साथ किया गया था। ये ट्रॉम राडार और कैमरा सेंसर से लैस है।

इसके साथ ही यह ट्रॉम एआई एल्गोरिदम पर बेस्ड है जो ट्रैकसाइड सिग्नल पर सिग्नल देती है और पैदल चलने वालों और वाहनों को पार करने जैसे खतरों को पहले ही बता देती है। हालांकि, इमरजेंसी कंडीशन के लिए एक सुरक्षा चालक के साथ इसे वास्तविक यातायात में 6 किमी के परीक्षण मार्ग पर चलाया गया है। इसमें एक बार में 250 यात्री यात्रा कर सकते है।

दुनिया की इस पहली चालकरहित ट्रॉम को 50 कंप्यूटर वैज्ञानिकों, इंजीनियरों, गणितज्ञों की एक टीम ने विकसित किया है। न्यूरेमबर्ग आपरेटिंग कंपनी ने कहा कि हमने इस ट्रॉम का परीक्षण चुपचाप किया क्योंकि हमें डर था कि लोगों को इसके बारे में पता चला तो वो इसमें चढ़ेगें जिससे अव्यवस्था फैल सकती थी।

Provide Comments :





Related Posts :