Forgot password?    Sign UP
भारत और सिंगापुर के बीच शुरू हुआ सिम्बेक्स-2019 समुद्री युद्ध अभ्यास

भारत और सिंगापुर के बीच शुरू हुआ सिम्बेक्स-2019 समुद्री युद्ध अभ्यास





2019-05-20 : हाल ही में, भारत और सिंगापुर के बीच सिम्बेक्स-2019 युद्ध अभ्यास शुरू हो गया है। बता दे की यह इस अभ्यास का 26वां संस्करण है। इस अभ्यास का आयोजन 16 मई से 22 मई 2019 के बीच किया जा रहा है। इस वार्षिक द्विपक्षीय अभ्यावस की शुरुआत पारंपरिक पनडुब्बीा रोधी अभ्या सों से हुई जो एडवांस्डम एयीर डिफेंस ऑपरेशन्स , एंटी हवाई/सतह लक्ष्यों पर अभ्यातस गोलीबारी, सामरिक अभ्यायस आदि तक पहुंच चुकी है। सिम्बेेक्सस-19 के लिए भारतीय नौसेना ने आपसी विश्वायस को मजबूत बनाने, अंत:पारस्पसरिकता को बढ़ाने एवं दोनों नौसेनाओं के बीच समान सामुद्रिक चिंताओं के समाधान में अधिक समन्वमय के निर्माण करने के उद्देश्यर से अपने सबसे बेहतरीन एसिट को तैनात किया है।

भारतीय नौसेना के जहाज कोलकाता और शक्ति के अतिरिक्तन लंबी दूरी के सामुद्रिक निगरानी विमान भी सिम्बेेक्सं-19 में हिस्सा लेंगे। सिंगापुर के पक्ष का प्रतिनिधित्व आरएसएन जहाज इस्टीरड फास्टस और वेलियेंट, सामुद्रिक निगरानी विमान फोकर-50 (एफ-50) और एफ-16 लड़ाकू विमान द्वारा किया जाएगा। सिम्बेेक्स -19 में भारतीय नौसना के जहाज कोलकाता और शक्ति की दक्षिण एवं पूर्व चीन सागर में दो महीने की तैनाती भी शामिल है, जिसका उद्देश्यक पूर्व एवं दक्षिण पूर्व एशिया के देशों के साथ संवर्द्धित सांस्कृ तिक, आर्थिक एवं सामुद्रिक अंत:संपर्कों के जरिए मित्रता सेतु को विस्तांरित करना है।

सिम्बेक्स के बारे में :-

# साल 1993 में अपनी शुरुआत से सिम्बे क्सथ सुनियोजित और संचालनगत जटिलता के साथ आगे बढ़ा रहा है।

# सिंगापुर और भारत के बीच द्विपक्षीय सहयोग पहली बार औपचारिक हुआ जब आरएसएन जहाजों ने साल 1994 में भारतीय नौसेना के साथ प्रशिक्षण शुरू किया।

# सिम्बेेक्सप दोनों सेनाओं के बीच पिछले कुछ वर्षों के दौरान सामुद्रिक सहयोग बढ़ाने तथा दोनों देशों के बीच मित्रता के रिश्तोंक को मजबूत करने में राष्ट्र की प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करने में खरा उतरा है।

# सिम्बेक्स का मुख्य उद्देश्य आरएसएन और आईएन के बीच अंतःक्रियाशीलता बढ़ाने के साथ-साथ समुद्री सुरक्षा संचालन के लिए सामान्य समझ और प्रक्रियाओं को विकसित करना है।

Provide Comments :





Related Posts :