Forgot password?    Sign UP
भारतीय मूल के हरीश साल्वे बने ब्रिटेन की महारानी के क्वींस काउंसल

भारतीय मूल के हरीश साल्वे बने ब्रिटेन की महारानी के क्वींस काउंसल





2020-01-18 : हाल ही में, वरिष्ठ वकील और देश के पूर्व सॉलिसिटर जनरल हरीश साल्वे को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक और बहुत बड़ी जिम्मेदारी मिली है। इंग्लैंड और वेल्स की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय ने हरीश साल्वे को अपना काउंसल (सलाहकार) नियुक्त किया है। पाठकों को बता दे की महारानी के वकील का खिताब उन लोगों को दिया जाता है जिन्होंने कानूनी क्षेत्र में विशेष कौशल और विशेषज्ञता का प्रदर्शन किया है। महारानी एलिजाबेथ के द्वारा प्रत्येक साल कॉमनवेल्थ देशों से कुछ वरिष्ठ वकीलों को नियुक्त किया जाता है। इसमें इस बार हरीश साल्वे का नाम है।

हरीश साल्वे के बारे में :-

# हरीश साल्वे का जन्म महाराष्ट्र के नागपुर शहर में 1956 में हुआ था। हरीश साल्वे के पिता नरेंद्र कुमार साल्वे कांग्रेस के नेता थे। वहीं, उनके दादा प्रसिद्ध वकील थे।

# वकालत के अतिरिक्त हरीश साल्वे को संगीत और पियानो बजाने का भी शौक है। वे भारत ही नहीं बल्कि विश्व के सबसे महंगे वकीलों में से एक हैं। वे देश के सबसे सफलतम वकीलों में गिने जाते हैं।

# हरीश साल्वे की गिनती ना सिर्फ भारत बल्कि विश्व के बड़े वकीलों में होती है। उन्होंने पिछले साल कुलभूषण जाधव का केस हैंडल किया था।

# वे इससे पहले सलमान खान, मुकेश अंबानी, इटली सरकार और वोडाफोन जैसे बड़े क्लाइंटेस के लिए पेश हो चुके हैं।

# उन्होंने नागपुर यूनिवर्सिटी से अपनी एलएलबी की पढ़ाई पूरी की थी। उन्होंने साल 1980 में अपने वकालत के करियर की शुरुआत की थी।

# हरीश साल्वे साल 1992 में दिल्ली हाई कोर्ट में वरिष्ठ अधिवक्ता नियुक्त किए गए थे। उन्होंने 1999 से 2002 तक भारत के लिए सॉलिसिटर जनरल के रूप में काम किया।

Provide Comments :





Related Posts :