Forgot password?    Sign UP
भारत व्यापार के जरिये मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में दुनिया में तीसरे स्थान पर : Report

भारत व्यापार के जरिये मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में दुनिया में तीसरे स्थान पर : Report





2020-03-05 : हाल ही में, अमेरिकी शोध संस्थान ग्लोबल फाइनेंशियल इंटेग्रिटी (जीएफआई) ने 03 मार्च 2020 को एक रिपोर्ट जारी की है। इस सूची के अनुसार व्यापार के जरिये काले धन को सफेद करने के मामले में भारत 135 देशों की सूची में तीसरे स्थान पर है। इस रिपोर्ट के अनुसार भारत में व्यापार से जुड़ी मनी लॉन्ड्रिंग गतिविधियों के जरिए अनुमानित 83।5 अरब डॉलर की राशि पर टैक्स चोरी की जाती है। जीएफआई ने कोष के गैरकानूनी तरीके से प्रवाह को अवैध तरीके से कमाई, धन को स्थानांतरित करना तथा अंतरराष्ट्रीय सीमा पर उपयोग करने के रूप में वर्गीकृत किया है।

इस सूची में शीर्ष 5 देश इस प्रकार है....

1. चीन

2. मेक्सिको

3. भारत

4. रूस

5. पोलैंड

मनी लॉन्ड्रिंग के बारे में :-

# मनी लॉन्ड्रिंग का मतलब अवैध तरीके से कमाए गए काले धन को वैध तरीके से कमाए गए धन के रूप में दिखाने से होता है।

# मनी लॉन्ड्रिंग अवैध रूप से प्राप्त धनराशि को छुपाने का एक तरीका है।

# मनी लॉन्ड्रिंग के माध्यम से धन ऐसे कामों में लगाया जाता है कि जाँच करने वाली एजेंसियां भी धन के मुख्य स्रोत का पता नही लगा पातीं है।

# मनी लॉन्ड्रिंग के माध्यम से कमाए गए धन पर सरकार को कोई कर (टैक्स) नही मिलता है क्योंकि इस धन का कोई भी लेखा-जोखा सरकार के पास नही होता है।

# मनी लॉन्ड्रिंग शब्द की उत्पत्ति संयुक्त राज्य अमेरिका में ‘माफिया समूह’ से उत्पन्न हुई थी।

Provide Comments :





Related Posts :