Forgot password?    Sign UP
विश्व रक्तदाता दिवस (World Blood Donor Day) मनाया गया

विश्व रक्तदाता दिवस (World Blood Donor Day) मनाया गया





2020-06-15 : हर वर्ष 14 जून को “विश्व रक्तदान दिवस या विश्व रक्त दाता दिवस (World Blood Donor Day) मनाया जाता है। वर्ल्ड ब्लड डोनर डे का उद्देश्य रक्तदान को बढ़ावा देना है। पाठकों को बता दे की विश्व रक्तदान दिवस पहली बार साल 2004 में मनाया गया। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइज़ेशन (World Health Organization) ने इसकी शुरुआत की थी। विश्व रक्त दाता दिवस 2020 की थीम है “सुरक्षि‍त रक्त, बचाए जीवन (Safe blood saves lives)”। इसी के साथ विश्व रक्त दाता दिवस 2020 पर और नारा यानी स्लोगन दिया गया है “रक्त दें और दुन‍िया को एक सेहतमंद जगह बनाएं (Give blood and make the world a healthier place) “।

14 जून को ही क्यों मनाया जाता है यह दिवस?

पाठकों को बता दे की 14 जून को नोबल प्राइस विजेता कार्ल लैंडस्टेनर (Karl Landsteiner) का जन्म हुआ था। यही वे साइंटिस्ट हैं, जिन्होंने ABO ब्लड ग्रुप सिस्टम खोजने का श्रेय मिला है। ब्लड ग्रुप्स का पता लगाने वाले कार्ल लैंडस्टीनर के जन्मदिन के दिन ही विश्व रक्तदान दिवस मनाया जाता है। कार्ल लैंडस्टीनर के द्वारा ब्लड ग्रुप्स का पता लगाए जाने से पहले तक ब्लड ट्रांसफ्यूजन बिना ग्रुप के जानकारी होता था। इस खोज के लिए ही कार्ल लैंडस्टा ईन को सन 1930 में नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

क्या होते है रक्तदान के फायदे?

# रक्त दान से हार्ट अटैक की आशंका कम होती है। रक्तदान से खून का थक्का नहीं जमता, खून कुछ मात्रा में पतला हो जाता है और हार्ट अटैक का खतरा कम होता है।

# रक्तदान वज़न कम करने में भी आपकी मदद कर सकता है, इसलिए साल में कम से कम दो बार रक्तदान करना चाहिए।

# डेढ़ पाव खून का दान करने से आपके शरीर से 650 कैलोरीज़ कम होती हैं।

# खून डोनेट करने से लिवर से जुड़ी समस्याएं कम हो सकती हैं। शरीर में ज़्यादा आयरन होने का दबाव लिवर पर पड़ता है। वहीं, रक्तदान से आयरन की मात्रा बैलेंस हो जाती है।

# आयरन की मात्रा को बैलेंस करने से लिवर हेल्दी बनता है और कैंसर का खतरा भी कम हो जाता है।

Provide Comments :





Related Posts :