Forgot password?    Sign UP
सेना ने पंजाब को पराजित कर संतोष ट्रॉफी  (Santosh Trophy)  फुटबॉल प्रतियोगिता जीती  |

सेना ने पंजाब को पराजित कर संतोष ट्रॉफी (Santosh Trophy) फुटबॉल प्रतियोगिता जीती |





0000-00-00 : सर्विसेज (सेना) ने टाईब्रेकर में मेजबान पंजाब को 5-4 से पराजित कर संतोष ट्रॉफी फुटबॉल प्रतियोगिता 2015 (69वीं राष्ट्रीय फुटबॉल प्रतियोगिता) जीती | सर्विसेज (सेना) ने यह प्रतियोगिता चौथी बार जीती | 69वीं राष्ट्रीय फुटबॉल प्रतियोगिता का फाइनल मैच लुधियाना के गुरु नानक स्टेडियम में 15 मार्च 2015 को खेला गया | संतोष ट्रॉफी फुटबॉल प्रतियोगिता को सीनियर राष्ट्रीय फुटबाल चैम्पियनशिप भी कहते हैं | सर्विसेज (सेना) ने इसके पहले वर्ष 2013, 2012 और 1961 में यह प्रतियोगिता जीती था | यह संतोष ट्राफी का 69वां संस्करण है | इस प्रतियोगिता के कुछ मैच जालंधर के गुरु गोबिंद सिंह स्टेडियम में भी खेले गए | दोनों टीमें निर्धारित समय में कोई गोल नहीं कर सकी जिससे नतीजे के लिए टाईब्रेकर का सहारा लिया गया | प्रतियोगिता में सेना के कप्तान एंथोनी और पंजाब टीम के कप्तान रविंदर सिंह रहे | टाईब्रेकर में सेना के लिए एंथोनी, विबिन, फ्रांसिस जोनुनतुलनगा, अरूण तुडु और राकेश सिंह ने गोल किए | पंजाब की ओर से परमजीत सिंह गोल करने में नाकाम रहे परिणामतः पंजाब की टीम पराजित हो गई | सेना ने यह खिताब चार बार जीता जबकि पांच बार यह टीम उप विजेता भी रही | 68वीं राष्ट्रीय फुटबाल चैम्पियनशिप (2014) का खिताब मिजोरम ने रेलवे को पराजित कर जीता था | 69वें संतोष ट्राफी राष्ट्रीय फुटबाल टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में मिजोरम, केरल, सेना (सर्विसेज) और पंजाब की टीमें पहुंची | संतोष ट्रॉफी से सम्बंधित मुख्य तथ्य : (i) संतोष ट्रॉफी फुटबॉल प्रतियोगिता की शुरुआत वर्ष 1941 में इंडियन फुटबाल एसोसिएशन ने की थी | (ii) स्व. मनमथा नाथ राय चौधरी ने महाराजा आफ संतोष जो कि अब (बांग्लादेश) क्षेत्र में पड़ता है, के नाम पर इसका नामकरण किया. इसे विजेता टीम को दिया जाता है | (iii) रनरअप ट्रॉफी डा. एसके गुप्ता ने स्व. कमल गुप्ता के नाम पर शुरू की थी | (iv) सबसे अधिक पश्चिम बंगाल 43 बार फाइनल में स्थान बनाकर 31 बार संतोष ट्रॉफी का खिताब जीती | (v) पंजाब ने 14 में से 8 बार जीतकर दूसरा स्थान, वहीं केरल 12 व गोवा पांच बार खिताब जीतकर चौथे व पांचवे स्थान पर रहे | (vi) संतोष ट्रॉफी में पंजाब के अर्जुन अवार्डी इंद्रप्रीत ने रिकॉर्ड 45 गोल किए | (vii) वर्ष 1974 जालंधर में आयोजित ट्राफी में इंद्रप्रीत सिंह की पंजाब टीम ने 46 गोल में से 23 गोल कर रिकॉर्ड बनाया |

Provide Comments :





Related Posts :