Forgot password?    Sign UP
भारत ने निमोनिया की स्वदेशी वैक्सीन विकसित की

भारत ने निमोनिया की स्वदेशी वैक्सीन विकसित की





2020-07-16 : हाल ही में, केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने 14 जुलाई 2020 को बताया कि पूरी तरह से भारत में विकसित न्यूमोनिया के पहले टीके को भारत के औषधि महानियंत्रक (DCGI) से मंजूरी मिल गयी है। टीके के लिए विशेष विशेषज्ञ समिति (एसईसी) की मदद से डीसीजीआई ने पुणे की कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा सौंपे गए क्लिनिकल ट्रायल के पहले, दूसरे और तीसरे चरण के आंकड़ों की समीक्षा की और ‘न्यूमोकोकल पॉलीस्काराइड कॉजुगेट टीके’ को बाजार में उतारने की अनुमति दे दी।

यह टीका इंजेक्शन की मदद से लगेगा। मंत्रालय ने बताया कि इस टीके का उपयोग न्यूमोनिया से बचाव के लिए बड़े पैमाने पर किया जाएगा। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने डीसीजीआई से टीके के पहले, दूसरे और तीसरे चरण का क्लिनिकल ट्रायल भारत में करने की मंजूरी ली। इसका ट्रायल गाम्बिया में भी हुआ है। इसके बाद कंपनी ने टीका बनाकर उसे बेचने की अनुमति मांगी थी। मंत्रालय ने बताया कि विशेष विशेषज्ञ समिति ने टीके के उत्पादन और बिक्री की अनुमति देने की सलाह दी। इसके आधार पर 14 जुलाई को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को इसकी अनुमति दे दी गई।

निमोनिया रोग के बारे में :-

# निमोनिया सांस से जुड़ी एक गंभीर बीमारी है।

# जिसमें फेफड़ों (लंग्स) में इन्फेक्शन हो जाता है।

# निमोनिया होने पर फेफड़ों में सूजन आ जाती है और कई बार पानी भी भर जाता है।

Provide Comments :




Related Posts :