Forgot password?    Sign UP
कॉरपोरेट धोखाधड़ी की मेरिट लिस्ट में भारत को मिला तीसरा स्थान|

कॉरपोरेट धोखाधड़ी की मेरिट लिस्ट में भारत को मिला तीसरा स्थान|





2016-06-28 : हाल ही में, अमरीकी संस्था क्रॉल इंक की ओर से 27 जून 2016 को विश्व भर में कराए गए सर्वेक्षण में पता चला है कि भारत में होने वाली कॉरपोरेट धोखाधड़ी में भ्रष्टाचार और घूस का हिस्सा 25 फ़ीसद से अधिक है। क्रॉल और इकॉनामिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट की ओर से कराए गए इस संयुक्त सर्वेक्षण में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर की कंपनियों में काम करने वाले विश्वभर के 768 एग्जक्यूटिव ने हिस्सा लिया। यह सर्वेक्षण साल 2015 से मार्च 2016 के दौरान किया गया।

सर्वेक्षण में शामिल तीन चौथाई लोगों ने पिछले साल अपनी कंपनियों में धोखाधड़ी का सामना करने की बात स्वीकार की। वहीं भारत में ऐसे लोगों की संख्या 80 फ़ीसद थी। इस सर्वेक्षण में शामिल देशों में भारत उन देशों में शामिल है, जहां धोखाधड़ी की समस्या सबसे बड़ी है।रिपोर्ट की मुताबिक़ साल 2015-2016 में भारत की 80 फ़ीसद कंपनियां धोखाधड़ी का शिकार हुईं। साल 2013-2014 में ऐसी कंपनियों की संख्या 69 फ़ीसद थी। इस दौरान 92 फ़ीसद कंपनियों में धोखाधड़ी का पता लगा।

Provide Comments :





Related Posts :