Forgot password?    Sign UP
सौर ऊर्जा चालित विमान सोलर इम्पल्स–2 ने विश्व भ्रमण के लिए आबू धाबी से उड़ान भरी |

सौर ऊर्जा चालित विमान सोलर इम्पल्स–2 ने विश्व भ्रमण के लिए आबू धाबी से उड़ान भरी |





0000-00-00 : 8 मार्च 2015 को सौर ऊर्जा चालित विमान सोलर इम्पल्स–2 ने विश्व भ्रमण के लिए आबू धाबी से उड़ान भरी. सौर ऊर्जा चालित विमान की यह पहली विश्व भ्रमण उड़ान होगी | इस विश्व भ्रमण उड़ान का उद्देश्य पुराने प्रदूषण फैलाने वाली प्रौद्योगिकियों की जगह स्वच्छ और कुशल प्रौद्योगिकियों को अपनाने के प्रति जागरूकता पैदा करना है | सोलर इम्पल्स–2 अपनी यात्रा के दौरान 35000 किलोमीटर की दूरी तय करेगा और यह मस्कट,ओमान; अहमदाबाद और वाराणसी, भारत; मांडले, म्यांमार और चूंगचींग और नानजिंग, चीन में रूकेगा | हवाई के जरिए प्रशांत महासागर को पार करने के बाद यह अमेरिका के उपर से गुजरेगा और वहां फोनिक्स एवं न्यूयॉर्क सिटी के जॉन एफ केनेडी हवाईअड्डे पर रूकेगा | अपने अंतिम चरण में अटलांटिक महासागर से गुजरने के बाद, आबू धाबी लौटने से पहले वह सदर्न यूरोप (दक्षिणी यूरोप) या नदर्न अफ्रीका (उत्तरी अफ्रीका) में रूकेगा | सोलर इम्पल्स के अपनी 35000 किलोमीटर की यात्रा पांच महीनों में पूरा करने की उम्मीद है और इसके पायलट होंगे स्विस पायलट बर्ट्रेंड पिकार्ड और आंद्रे बोर्शबर्ग | पायलट बर्ट्रेंड पिकार्ड साहसिक कार्यों के पिता जैक पिकार्ड के परिवार से ताल्लुक रखते हैं जो उन दो लोगों में से एक हैं जो सबसे पहली बार महासागर से सबसे गहराई में पहुंचे थे | जैक ने यह उपलब्धि डॉन वाल्स के साथ 1960 में ट्राएस्टे बाटिस्काफ में हासिल की थी | उनके दादा, अगस्चे पिकार्ड, समतापमंडल (स्ट्रैटोस्फेयर) में गुब्बारा ले जाने वाले पहले व्यक्ति थे | सोलर इम्पल्स-2 के बारे में : सोलर इम्पल्स अनंत स्थायित्व वाला एक मात्र विमान है, सौर ऊर्जा पर दिन और रात दोनों ही समय उड़ सकता है और इसे इंधन के एक बूंद की भी आवश्यकता नहीं होती | सोलर इम्पल्स-2 का वजन 2.3 टन है और यह 87 मील प्रति घंटा (एमपीएच) की सर्वाधिक गति के साथ उड़ सकता है. सिर्फ एक यात्री को ले जा सकता है और कार्बन डाइऑक्साइडन का बिल्कुल भी उत्सर्जन नहीं करता | इसके पंख का फैलाव 72 मीटर है और चौड़ाई 3.5 मीटर. यह लंबाई 17000 सौर पैनलों को स्पोर्ट करने की अनुमति देता है जो विमान को शक्ति देने के लिए पर्याप्त ऊर्जा पैदा करने में और 633 किलोग्राम लिथियम बैट्रियों को चार्ज करने में मदद करते हैं |

Provide Comments :





Related Posts :