Forgot password?    Sign UP
मशहूर लेखिका रमणिका गुप्ता का निधन

मशहूर लेखिका रमणिका गुप्ता का निधन





2019-03-27 : आदिवासी अधिकारों के लिए काम करने वाली साहित्यकार और नारीवादी रमणिका गुप्ता का नई दिल्ली में निधन हो गया, वे 89 साल की थीं। रमणिका जीवन के आखिरी समय तक सामाजिक कार्यों और साहित्य में सक्रिय थीं। सामाजिक सरोकारों की पत्रिका “युद्धरत आम आदमी” का सम्पादन करती थीं। रमणिका गुप्ता के निधन से साहित्य जगत् में शोक की लहर है। 22 अप्रैल 1930 को पंजाब में जन्मीं रमणिका के पति सिविल सर्विस में थे। उनके पति का पहले ही निधन हो चुका था। उनकी दो बेटियां और एक बेटा है।

सामजिक आंदोलनों के लिए विशेष पहचान बनाने वाली रमणिका विधायक भी रहीं। उन्होंने बिहार विधानपरिषद और विधानसभा में विधायक के रूप में कार्य किया। रमणिका ने ट्रेड युनियन लीडर के तौर पर भी काम किया। आदिवासी-दलित अधिकारों से लेकर स्त्री विमर्श तक कई किताबें, कविता संग्रह प्रकाशित हो चुकी हैं। उनकी आत्मकथा “हादसे और आपहुदरी” काफी मशहूर है। विभिन्न सम्मानों एवं पुरस्कारों से सम्मानित। स्त्री विमर्श से संबंधित लेखन- कलम और कुदाल के बहाने, दलित हस्तक्षेप, निज घरे परदेसी, साम्प्रदायिकता के बदलते चेहरे।

Provide Comments :





Related Posts :