Forgot password?    Sign UP
हस्‍तशिल्‍प एवं कालीन क्षेत्र कौशल परिषद् का गठन  |

हस्‍तशिल्‍प एवं कालीन क्षेत्र कौशल परिषद् का गठन |





0000-00-00 : वस्त्र मंत्रालय के केंद्रीय कौशल विकास एवं उद्यमशीलता विभाग ने एक नए संस्‍थान ‘हस्‍तशिल्‍प एवं कालीन क्षेत्र कौशल परिषद्’ का गठन किया | इस परिषद का गठन 20वें हस्‍तशिल्‍प निर्यात पुरस्‍कार प्रस्‍तुतीकरण समारोह के दौरान 17 मार्च 2015 को किया गया | इसका गठन प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी द्वारा कौशल विकास को बल प्रदान किए जाने के मद्देनजर किया गया. परिषद नई दिल्‍ली में स्थित होगी | समारोह की अध्‍यक्षता कपड़ा राज्‍यमंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) ने की और निर्यात पुरस्‍कार भी वितरित किए | उद्देश्य : इस परिषद का उद्देश्य कारीगरों, दस्‍तकारों और निचले स्‍तर के कामगारों के बीच कौशल विकास को बढ़ावा देना है | परिषद् के कार्य : (i) परिषद प्रारंभिक स्‍तर के कामगारों को नवीनतम तकनीकों को अपनाने और अधिक उत्‍पाद में मददगार बनाएगी | (ii) परिषद व्‍याव‍सायिक मानक के विकास, प्रमाणन और मूल्‍यांकन तंत्र और उन्‍हें कौशल विकास के क्षेत्र में मार्गदर्शन प्रदान करने समेत श्रम बाजार बुनियादी ढांचे की स्‍थापना के लिए जिम्‍मेदार होगी | (iii) परिषद कलाकारों, हस्‍तशिल्पियों, हस्‍तशिल्‍प और कालीन उत्‍पाद के प्रारंभिक स्‍तर के कामगारों में कौशल विकास को बढ़ावा देगी | कौशल विकास की भूमिका : राष्‍ट्र के उत्‍थान में कौशल विकास की अहम भूमिका है | चीन, ब्रिटेन, अमेरि‍का, जापान और जर्मनी की तुलना में हमारे देश में कुशल श्रमबल का प्रतिशत बहुत कम है | इससे प्रदर्शित होता है कि अर्थव्‍यवस्‍था के सभी क्षेत्रों में कौशल विकास को बढ़ावा देने की महती आवश्‍यकता है | जिससे कि भारत अच्‍छी गुणवत्‍तापूर्ण वस्‍तुओं के उत्‍पादन में प्रतिस्‍पर्धी बन सके | इसके साथ ही Make In India की सफलता के लिए हुनरमंद भारत आवश्‍यक है | भारत सरकार ने हमारे राष्‍ट्रीय उपक्रम के एक अं‍तरंग हिस्‍से के बतौर कौशल विकास को एक अभियान के रूप में लिया है |

Provide Comments :




Related Posts :