Forgot password?    Sign UP

"निरंतर विकास के लिए जैव विविधता" विषय के साथ अंतरराष्ट्रीय जैव-विविधता दिवस मनाया गया |





0000-00-00 : अंतरराष्ट्रीय जैव-विविधता दिवस 22 मई 2015 को मनाया गया | तथा इसे "विश्व जैव-विविधता संरक्षण दिवस" भी कहते हैं | वर्ष 2015 के अंतरराष्ट्रीय जैव-विविधता दिवस का विषय "निरंतर विकास के लिए जैव विविधता" (Biodiversity for Sustainable Development) रखा गया | और अंतरराष्ट्रीय जैव-विविधता दिवस का उद्देश्य पारिस्थितिकीय तंत्र के संरक्षण एवं संव‌र्द्धन के प्रति जन-जागरूकता को फैलाना है | इसी प्रकार अंतरराष्ट्रीय जैव विविधता दिवस पृथ्वी पर जीवन और मानवता की भलाई के लिए जैव विविधता की बुनियादी भूमिका को पहचानने के साथ-साथ जैव‍ विविधता के महत्व और खतरों के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है | तथा प्रतिवर्ष इस दिवस को मनाकर हम भावी पीढि़यों के लिए जैव-संसाधनों की मूल्यवान विरासत की रक्षा करने का संकल्प और जिम्मेदारी लेते हैं |
अंतरराष्ट्रीय जैव विविधता दिवस के अवसर पर पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि इस धरती को बच्चों से उधार लिया गया है न कि यह पूर्वजों से विरासत में मिली है | भारत के समक्ष अनिवार्य चुनौती निरंतर विकास के लिए जैव विविधता को आत्मसात करने की है | इसमें विशेष तौर पर वनों की सुरक्षा, संस्कृति, जीवन के कला शिल्प, संगीत, वस्त्र-भोजन, औषधीय पौधों का महत्व आदि को प्रदर्शित करके जैव-विविधता के महत्व एवं उसके न होने पर होने वाले खतरों के बारे में जागरूक करना है |

Provide Comments :





Related Posts :