Forgot password?    Sign UP
कोमालिका बारी बनीं रिकर्व कैडेट विश्व चैंपियन

कोमालिका बारी बनीं रिकर्व कैडेट विश्व चैंपियन





2019-08-26 : हाल ही में, टाटा तीरंदाजी अकादमी की कोमलिका बारी ने स्पेन की राजधानी मैड्रिड में हुई विश्व युवा तीरंदाजी चैंपियनशिप के फाइनल में स्वर्णिम निशाना साधकर इतिहास रच दिया। कोमलिका ने 25 अगस्त को खेले गए फाइनल में जापान की वाका सोनोडा पर 7-3 से जीत के बाद महिला कैडेट रिकर्व श्रेणी में स्वर्ण पदक जीता। कोमलिका ने गुरुवार को खेले गए सेमीफाइनल मुकाबले में कोरियाई तीरंदाज जांग मी को 6-5 से पराजित किया था। पाठकों को बता दे की 17 साल की कोमलिका अंडर-18 वर्ग में विश्व चैंपियन बनने वाली भारत की दूसरी तीरंदाज बनीं। उनसे पहले दीपिका कुमारी ने 2009 में यह खिताब जीता था।

फाइनल में कोमलिका को कठिन चुनौती का सामना नहीं करना पड़ा। कोमलिका ने पहले दो सेट आसानी से जीतकर 4-0 की बढ़त बना ली। हालांकि, जापानी तीरंदाज ने वापसी कर मुकाबले को 5-1 पर लाने में सपलता हासिल की। कोमलिका को स्वर्ण पदक हासिल करने के लिए बस एक अंक की जरूरत थी। चौथे सेट में भी जापानी खिलाड़ी सोनोडा ने जीत हासिल कर मुकाबले को 5-3 पर ला खड़ा किया। लेकिन, अंतिम सेट में 29-28 अंक हासिल कर कोमलिका ने स्वर्ण पदक को अपनी झोली में डाल लिया।

विश्व तीरंदाजी से निलंबन लागू होने से पहले भारत ने अपनी आखिरी प्रतियोगिता में दो स्वर्ण और एक कांस्य पदक के साथ अभियान का समापन किया। इस महीने की शुरुआत में विश्व तीरंदाजी ने भारत को निलंबित करने का फैसला किया था, जिसके हटने तक अब कोई भी भारतीय तीरंदाज देश का प्रतिनिधित्व नहीं कर पाएगा। भारतीय तीरंदाजों ने इससे पहले शनिवार को मिक्स्ड जूनियर डबल्स स्पर्धा में स्वर्ण और शुक्रवार को जूनियर पुरुष टीम स्पर्धा में कांस्य जीता था।

Provide Comments :





Related Posts :