Forgot password?    Sign UP
भारतीय फिल्म पिंक (Pink) संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में स्पेशल स्क्रिनिंग के लिए आमंत्रित की गई

भारतीय फिल्म पिंक (Pink) संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में स्पेशल स्क्रिनिंग के लिए आमंत्रित की गई





2016-11-29 : संयुक्त राष्ट्र के सहायक महासचिव ने अमिताभ बच्चन द्वारा अभिनीत बॉलीवुड फिल्म पिंक को संस्था के न्यूयॉर्क, अमेरिका स्थित मुख्यालय में स्पेशल स्क्रिनिंग के लिए आमंत्रित किया है। अनिरुद्ध रॉय चौधरी द्वारा निर्देशित और रीतेश शाह द्वारा लिखित यह फिल्म आधुनिक भारतीय अदालत के ड्रामा को दर्शाती है। इसमें लैंगिक हिंसा के मुद्दे को उठाया गया है। बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन के इस फिल्म में किए गए अभिनय को उनका अभी तक का किया गया सबसे अच्छा अभिनय बताया जा रहा है । साथ ही यह वर्ष 2016 की सबसे सफल फिल्मों में से एक है।

इस फिल्म को दर्शकों ने काफी सराहा और पूरे देश के समीक्षकों ने बेहद यथार्थवादी कथा के कारण इस फिल्म को खासा पसंद किया। 16 सितंबर 2016 को यू/ए श्रेणी के तहत इस फिल्म को रीलिज किया गया था। फिल्म में चार जगहों पर की गई बातचीत को सेंसर बोर्ड ने कटवा दिया था। महिलाओं के अधिकार और सम्मान के प्रति अधिक संवेदनशीलता बरदने के लिए प्रशिक्षित करने हेतु राजस्थान पुलिस के लिए इसकी स्पेशल स्क्रिनिंग की गई थी। 4 नवंबर 2016 को सिनेमाघरों में इसने 50 दिन पूरे किए।

पिंक फिल्म की कहानी का सार :-

# यह फिल्म तीन कामकाजी पेशेवरों की है– तापसी पन्नू, एंड्रिया तरंग और कीर्ति कुलहरी– ये दक्षिण दिल्ली के पॉश कॉलोनी के एक फ्लैट में रहती हैं।

# अमिताभ बच्चन सेवानिवृत्त वकील का किरदार निभा रहे हैं। ये इन तीनों लड़कियों के पड़ोसी हैं।

# फिल्म में प्रभावशाली राजनीतिज्ञ के बेटे और उसके दोस्तों द्वारा लैंगिंक हिंसा की शिकार ने कैसे इन तीन महिलाओं के जीवन को बदल दिया, दिखाया गया है। इसमें आधुनिक और परंपरागत मान्यताओं से कम जुड़ी महिलाओं के प्रति सामाजिक कलंक को भी प्रमुखता दी गई है।

# आखिरकार लड़कियों पर "हत्या का प्रयास" करने का आरोप लगाया जाता है और फिर अमिताभ बच्चन का काम शुरु होता है। वे अपनी बेगुनाही के लिए लड़ रही इन तीन महिलाओं के वकील बनते हैं।

Provide Comments :





Related Posts :