Forgot password?    Sign UP
 महाराष्ट्र सरकार ने 14708 गांवों को सूखाग्रस्त घोषित किया |

महाराष्ट्र सरकार ने 14708 गांवों को सूखाग्रस्त घोषित किया |



0000-00-00 : महाराष्ट्र सरकार ने 16 अक्टूबर 2015 को 40053 गांवों में से 14708 गांवों को सूखाग्रस्त घोषित किया क्योंकि यहां इस वर्ष मानसून 50 प्रतिशत से भी कम हुआ। सरकार द्वारा इन गांवों के किसानों को राहत के तौर पर विभिन्न सुविधाओं की घोषणा की जिसमें बिजली बिल माफ़ करने एवं भू-राजस्व में छूट दी गयी है। महाराष्ट्र में किसानों को लगातार दूसरे वर्ष सूखे का सामना करना पड़ रहा है जिसमें दक्षिण-पश्चिम मानसून 27 प्रतिशत से भी कम रहा है।

कर्नाटक के बाद महाराष्ट्र दूसरा राज्य है जहां सूखा ग्रसित गांवों की घोषणा की गयी। कर्नाटक के 30 में से 27 जिलों को अगस्त 2015 में सूखाग्रस्त घोषित किया गया था। महाराष्ट्र के 35 में से 20 जिलों में सूखा घोषित किया गया है जबकि मराठवाड़ा के सभी जिले इस घोषणा में शामिल हैं। सूखा ग्रस्त जिले हैं – गडचिरोली, नागपुर, अकोला, यवतमाल, औरंगाबाद, परभानी, लातूर, नांदेड़, बीद, जलना, ओस्मानाबाद, हिंगोली, पुणे, सतारा, सांगली, नासिक, धुले, नंदुरबार, जलगांव एवं अहमदनगर।

Provide Comments :